दीपावली (दिवाली) का त्योहार क्यों और कैसे मनाया जाता है | How to celebrate diwali festival in hindi

How to celebrate diwali festival in hindi: दीपावली पूरे भारतवर्ष में मनाये जाने वाले सभी त्योहारों में से प्रमुख है। हेलो दोस्तों स्वागत है आपका आज की इस मजेदार त्योहारिक जानकारी में दोस्तों दीपावली के इस सीजन में बहुत से त्योहार आते हैं जिसमें पहले नवरात्रि और उसके बाद धनतेरस आता है, उसके ठीक दो दिन बाद भारत का प्रसिद्ध त्योहार दीपावली आता है। आज हम यही जानने वाले है कि दीपावली का त्योहार क्यों? और कैसे? मनाया जाता है। यह कब आता है? 


ये भी पढ़े:

धनतेरस का त्योहार क्यों और कैसे मनाया जाता है How to celebrate dhanteras festival in hindi

भाई दूज त्योहार क्या है और क्यों मनाया जाता है What is Bhai Dooj in hindi


How to celebrate diwali festival in hindi
How to celebrate diwali festival in hindi


दीपावली (Diwali) क्या है

Diwali भारत का प्रमुख और महत्वपूर्ण त्योहार है। यह हिन्दू परंपरा का सबसे बड़ा त्योहार है। यह हिन्दूओ, सिखों, जैन और बौद्ध  आदि के अनुयायियों द्वारा मनाया जाता है। इसका आरंभ धनतेरस के त्योहार से होता है। 

दीपावली शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के शब्द से हुई है, जिसमें दीप+आवली से मिलकर दीपावली बना है। इसे दीवाली, दिवालियी, दिहारी, दीपाबॉली, तिहारी आदि नामों से जाना जाता है। यह भारत के अलावा आस्ट्रेलिया, सिंगापुर, श्री लंका, नेपाल, पाकिस्तान, म्यांमार जैसे देशों में भी मनाया जाता है। 


How to celebrate diwali festival in hindi



दीपावली कब और क्यों मनाई जाती है

दीपावली प्रत्येक वर्ष कार्तिक मास की अमावस्या को आता है, जो अक्तूबर या नवम्बर के महीनों में मनाया जाता है। इस दिन भगवान राम अपना चौदह वर्ष का वनवास पूरा कर वापस अपने नगरी अयोध्या लौटे थे तब यहाँ के लोगों ने इनका अभिनंदन करने के लिए दीप जलाकर इनका स्वागत किया था। तभी से इस दिन को हर साल दीपावली के रूप में मनाया जाता है। इसे 'दीपों का त्योहार' भी कहा जाता है। 


दीपावली कैसा त्योहार है इसे क्यों मनाते है इसे मनाने का कारण 

Diwali को खासकर इसलिए मनाया जाता है क्योंकि यह एक त्योहार नहीं बल्कि त्योहारों का त्योहार है। यह हमारे देश को खुशहाली से भर देती है। दीपावली जब आती तब अपने साथ कई त्योहार लेकर आती है जैसे नवरात्रि, धनतेरस, भाई दूज, शिवरात्री व्रत, गोवर्धन पूजा, लक्ष्मी पूजा आदि। यह इन त्योहारों के साथ हमारे पूरे साल को खुशियों में बदल देता है। पौराणिक कथाओं और ग्रंथों में भी इसे मनाने के कई तथ्य जुड़े हुए है। इन्ही सब कारणो की वजह से हम दीपावली को मनाते है


दीपावली ki तैयारियाँ kaise की जाती है

Diwali एक ऐसा त्योहार है जिसके आने से एक महीने पूर्व ही इसकी तैयारियाँ शुरू हो जाती है। लोग अपने अधूरे कार्यों को पूरा करते है। जिसमें गृहनिर्माण, उद्योग, धन्धे, कारखाने आदि सभी बचें हुए कार्यों को पूरा किया जाता है। 

उसके पश्चात नवरात्रि और दशहरा आता है। यह दोनों त्योहार निकलते ही दीपावली की शुरुआत हो जाती है और घरों की साफ-सफाई, कलर, सजावट आदि कार्य किये जाते है। 

इसके ठीक दो दिन पहले धनतेरस आता है। इस दिन दिन दीपावली के लिए नए-नए बर्तन पूजन सामग्री आदि खरीदे जाते है। 

दीवाली के एक दिन पहले बाजार में दिवाली का मेला लगता है जिसमें पटाखे, भेढ़े, महन्दी, मिठाईयाँ, चावल, घी आदि इसमें काम आने वाली वस्तुओं को खरीदा जाता है।


Diwali kaise मनाया जाता है।

दीपावली प्रत्येक वर्ष बड़े ही खुशी और उमंग के साथ मनाया जाता है। इस दिन लोग नए-नए कपड़े और पोशाके पहनते है और सब अपनी दुश्मनी को बुलाकर आमने-सामने गले मिलते है। सब एक दुसरे के घर महमान बनकर जाते है तथा कई प्रकार के पकवान बनाकर खाते है। 

देश के कोने-कोने में चारों ओर पटाखे फोडते है और पूरा देश इन पटाखों की आवाज से गुंज उठता है। दीपावली का पूरा दिन ऐसे ही खुशी से मनाते है। शाम को घर में दीप जलाकर पूरे घर को प्रज्वलित करते है और भगवान राम, माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु आदि की पूजा की करते है। 


Diwali के दिन क्या-क्या कार्य करते है।

इस दिन सुबह तुलसी की पूजा की जाती है। 10 से 12 बजे के बीच गाय, बैल, बकरी आदि सभी पशुओं और साधनों को नहलाया जाता है। 

शाम को इन्हें तिलक लगाकर माला पहनाई जाती है। फिर इन सभी की पूजा की जाती है। पूजा के बाद पशुओं को महन्दी लगाई जाती है। 

इसके बाद इन्हें भेढ़े पहनाए जाते है। भगवान राम की पूजा कर धन की देवी लक्ष्मी माता की पूजा की जाती है। औरतें अपने हाथों और पैरों में महन्दी लगाती है। 

बच्चे और बड़े सभी पटाखे जलाते है। इसी प्रकार पूरा दिन-रात यह त्योहार मनाया जाता है । दीपावली के दूसरे दिन धन के देवता भगवान गोवर्धन की पूजा की जाती है।


इस तरह दीवाली के इस पांच दिवसीय त्योहार हमारे देश और अन्य देशों में धूम-धाम से मनाया जाता है। मैं आशा करता हूँ की आप समझ गए होंगे कि "दीपावली (दिवाली) का त्योहार क्यों और कैसे मनाया जाता है How to celebrate diwali festival in hindi" का लेख आपको पसंद आया होगा। यदि आपको यह लेख पसंद आए तो अपने दोस्तों में जरूर शेयर करे।


ये भी पढ़े:

1. शारदीय नवरात्रि कैसे मनाई जाती है How to celebrate Shardiya Navratri in hindi

2. मामा बालेश्वर दयाल का जीवन परिचय Biography of Mama Baleshwar Dayal in hindi

3. भगवान विश्वकर्मा जयंती पर भाषण Vishwakarma jayanti speech in hindi



Dramatalk

Hello! I am the founder of this blog and a professional blogger. Here I regularly share helpful and useful information for my readers.

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने